गुरुवार, 16 मई 2013

विदेशी जुबान देशी गुणगान | Scholar's view about BHARAT




विदेशियों द्वारा स्वदेशी गुणगान :- 

1.J. Robert Oppenheimer,  American nuclear physicist (1904-1967)


यदि एक हजार सूर्य की चमक आसमान में फट पडे तो वह शक्ति सर्वशक्तिमान ईश्वर की महिमा की तरह होगा. . . . अब मैं दुनिया का  विध्वंसक मौत बन गया हूँ । 

आधुनिक परमाणु विज्ञानी रोबर्ट ओपेन हैमेर ने अपने सफल परमाणु प्रयोग से उत्पन्न महाउर्जा  को व्यक्त करने के लिए भगवद गीता  का उपरोक्त वाक्य उद्धृत किया ।

वेदों को ग्रहण कर पाना  इस सदी का भूतपूर्व सभी  सदियों से  सबसे बड़ा सौभाग्य  है।

रोबर्ट ओपेन हैमेर गीता , महाभारत, वेदों तथा उपनिषदों के बड़े प्रशंसक थे :


"If the radiance of a thousand suns were to burst into the sky, that would be like the splendour of the Mighty One. . . . Now I am become death, the destroyer of worlds.“

Oppenheimer "the father of the atomic bomb" quoting from the Hindu scripture Bhagavad-Gita upon witnessing the mushroom cloud resulting from the detonation of the world’s first atomic bomb in New Mexico, U.S.A., on July 16, 1945.

“Access to the Vedas is the greatest privilege this century may claim over all previous centuries. “
http://www.vedicbharat.com/2013/02/blog-post_4205.html 


2.Victor Cousin,  French Philosopher  (1792-1867) 

जब हम भारत के कव्यात्मक तथा दार्शनिक विलक्षण ग्रन्थ ध्यान से पढ़ते है , हम वहां अनंत सत्य पाते है , वे सत्य गहन व् गंभीर है । और दूसरी ओर यूरोपीय प्रतिभा कभी कभी अधम निष्कर्षों पर पहुँच का रुक गई है ।  इन दोनों इतना अधिक वैषम्य है की हम पूर्व के दर्शन के सामने विनत होने को बाध्य होते है और मानव जाती के इस पालने में उद्धार्तम दर्शन की स्वाभाविक भूमि के दर्शन करते है । 

"When we read the poetical and philosophical monuments of the East – above all, those of India, which are beginning to spread in Europe – we discover there many a truth, and truths so profound, and which make such a contrast with the meanness of the results at which European genius has sometimes stopped, that we are constrained to bend the knee before the philosophy of the East, and to see in this cradle of the human race the native land of the highest philosophy.“



3.Hu Shih,  former Ambassador of China to USA (1891-1962):

भारत ने २ ० शताब्दियों से चीन में एक भी सैनिक भेजे बिना सास्कृतिक रूप से विजय प्राप्त की और प्रभुत्व सत्ता प्राप्त की । 

"India conquered and dominated China culturally for 20 centuries without ever having to send a single soldier across her border.”






4.Dr. Arnold Joseph Toynbee,  British Historian  (1889-1975)

यह स्पस्ट हो चूका है की जो सिलसिला पाश्चात्य सस्कृति धारण किये आरंभ होता है उसे मानवीय सभ्यता के पतन से बचने हेतु भारतीय दर्शनशास्त्र की और उन्मुख होना ही होगा . इस प्रकार भारतीय दर्शनशास्त्र ही मानवीय जाति का एक मात्र उद्धारक है । 

"It is already becoming clear that a chapter which had a Western beginning will have to have an Indian ending, if it is not to end in the self-destruction of the human race. At this supremely dangerous moment in human history, the only way of salvation for mankind is the Indian way."


5.Albert Einstein (1879 -1955) 

जब मैंने भगवद गीता पढ़ी तब मुझे ईश्वर द्वारा इस स्रष्टि की रचना करने का ओचित्य स्पष्ट हुआ । 

 हम भारत के बहुत ऋणी हैं, जिसने हमें गिनती सिखाई, जिसके बिना कोई भी सार्थक वैज्ञानिक खोज संभव नहीं हो पाती।

“When I read the Bhagavad-Gita and reflect about how God created this universe everything else seems so superfluous.”

"We owe a lot to the Indians, who taught us how to count, without which no worthwhile scientific discovery could have been made.“




6.Will Durant,  American historian,  (1885-1981)

भारत हमारी  मातृभूमि थी , और संस्कृत यूरोप की भाषाओं की माँ थी, वह हमारे दर्शन की माँ थी, माँ, अरबों के माध्यम से, बहुत हमारे गणित के, माँ, महात्मा बुद्ध के माध्यम से, ईसाई धर्म में निहित आदर्शों की मां , ग्राम समुदाय के माध्यम से, स्वशासन और लोकतंत्र की.  कई मायनों में भारत भूमि हम सब की मां है.

"शायद विजय, अहंकार और लूट के लिए बदले में, भारत हमें सहनशीलता और नम्रता परिपक्व मन की, अर्जनशील आत्मा की शांत , समझ आत्मा की शांति, और एक एकीकृत, सभी जीवित चीजों के लिए एक  प्यार सिखाता रहेगा . "

"India was the motherland of our race, and Sanskrit the mother of Europe's languages; she was the mother of our philosophy; mother, through the Arabs, of much of our mathematics;  mother, through the Buddha, of the ideals embodied in Christianity; mother, through the village community, of self-government and democracy. Mother India is in many ways the mother of us all".

“Perhaps in return for conquest, arrogance and spoliation, India will teach us the tolerance and gentleness of the mature mind, the quiet content of the unacquisitive soul, the calm of the understanding spirit, and a unifying, a pacifying love for all living things.”



7.Sir William Jones,  Jurist, (1746-1794)

संस्कृत भाषा ग्रीक भाषा से कहीं अधिक उत्तम , लेटिन  से कहीं अधिक  प्रचुर तथा किसी भी अन्य भाषा से कहीं अधिक परिष्कृत है .. 

“…The Sanskrit language is of wonderful structure, more perfect than the Greek, more copious than the Latin and more exquisitely refined than either.

“... a stronger affinity than could possibly have been produced by accident; so strong, indeed, that no philologer could examine them all three, without first believing them to have sprung from some common source... ”




8.Ralph Waldo Emerson, Philosopher (1803-1882)

मैं भगवत गीता का अत्यंत ऋणी हूँ। यह पहला ग्रन्थ है जिसे पढ़कर मुझे लगा की किसी विराट शक्ति से हमारा संवाद हो रहा है।

"I owed a magnificent day to the Bhagavad-Gita. It was the first of books; it was as if an empire spoke to us, nothing small or unworthy, but large, serene, consistent, the voice of an old intelligence which in another age and climate had pondered and thus disposed of the same questions which exercise us.“

“The Indian teaching, through its clouds of legends, has yet a simple and grand religion, like a queenly countenance seen through a rich veil. It teaches to speak truth, love others, and to dispose trifles. The East is grand - and makes Europe appear the land of trifles. ...all is soul and the soul is Vishnu ...cheerful and noble is the genius of this cosmogony”

“When India was explored, and the wonderful riches of Indian theological literature found, that dispelled once and for all, the dream about Christianity being the sole revelation.  Nature makes a Brahmin of me presently.”



9.Arthur Schopenhauer,  German Philosopher  (1788-1860)

विश्व भर में ऐसा कोई अध्ययन नहीं है जो उपनिषदों जितना उपकारी और उद्दत हो। यही मेरे जीवन को शांति देता रहा है, और वही मृत्यु में भी शांति देगा।

यह दुनिया की सबसे पुरस्कृत तथा मनुष्य को ऊपर उठाने के लिए है जो केवल इसी के द्वारा संभव है । 

मुझे लगता है कि संस्कृत साहित्य के प्रभाव से ही  पंद्रहवीं शताब्दी में ग्रीक साहित्य का पुनरुद्धार हुआ था 



"In the whole world there is no study so beneficial and so elevating as that of the Upanishads. It has been the solace of my life – it will be the solace of my death."

“It is the most rewarding and the most elevating book which can be possible in the world. “

“I believe that the influence of the Sanskrit literature will penetrate not less deeply than did the revival of Greek literature in the fifteenth century.”




10.Henry David Thoreau, American Philosopher (1817-1862)

प्रातः काल मैं अपनी बुद्धिमत्ता को अपूर्व और ब्रह्माण्डव्यापी गीता के तत्वज्ञान से स्नान करता हूँ, जिसकी तुलना में हमारा आधुनिक विश्व और उसका साहित्य अत्यंत क्षुद्र और तुच्छ जान पड़ता है।

जब कभी में वेदों के किसी भाग का अध्ययन करता हु तो मुझे ऐसा महसूस होता है मानो किसी पारलोकिक प्रकाश ने मुझे प्रबुद्ध कर दिया हो । वेदों के महान शिक्षण में सांप्रदायिकता का कोई स्थान  नहीं है
यह विभिन्न उम्र, जलवायु, और देशों के लिए  महान ज्ञान का उपयुक्त मार्ग है । 

“…In the morning I bathe my intellect in the stupendous and cosmological philosophy of the Bhagavad-Gita in comparison with which our modern world and its literature seem puny and trivial."

“…Whenever I have read any part of the Vedas, I have felt that some unearthly and unknown light illuminated me. In the great teaching of the Vedas, there is no touch of the sectarianism. It is of ages, climes, and nationalities and is the royal road for the attainment of the Great Knowledge. When I am at it, I feel that I am under the spangled heavens of a summer night.“



 11.Mark Twain, American Author (1835-1920)

मनुष्य के इतिहास में जो भी मूल्यवान और सृजनशील सामग्री है, उसका भंडार अकेले भारत में है।

“This is India!

The land of dreams and romance,

of fabulous wealth and fabulous poverty,

of splendour and rags, of palaces and hovels,

of famine and pestilence,

of genii and giants and Aladdin lamps,

of tigers and elephants, the cobra and the jungle,

 the country of a hundred nations and a hundred tongues,

 of a thousand religions and two million gods,

cradle of the human race, birthplace of human speech,

 mother of history, grandmother of legend, great-grandmother of tradition, whose yesterdays bear date with the mouldering antiquities of the rest of the nations – the one sole country under the sun that is endowed with an imperishable interest for alien persons,

for lettered and ignorant, wise and fool, rich and poor,

bond and free, the one land that all men desire to see,

and having seen once, by even a glimpse,

would not give that glimpse for all the shows of all the rest of the globe combined. Even now, after a lapse of a year, the delirium of those days in Bombay has not left me and I hope it never will.”



12.Professor Max Muller,  (1823-1900)

यदि में पूरी दुनिया की और यह जानने के उद्देश्य से देखूं जो देश के सबसे बड़े पैमाने पर धन, ताकत तथा प्रकृति प्रदत सुन्दरता  के साथ संपन्न हो अर्थात धरती पर स्वर्ग की तरह ही हो । 
तो मैं भारत का नाम लूँगा

यदि मुझसे कोई पूछे की किस आकाश के तले मानव मन अपने अनमोल उपहारों समेत पूर्णतया विकसित हुआ है, जहां जीवन की जटिल समस्याओं का गहन विश्लेषण हुआ और समाधान भी प्रस्तुत किया गया, जो उसके भी प्रसंशा का पात्र हुआ जिन्होंने प्लेटो और कांट का अध्ययन किया। 
तो मैं भारत का नाम लूँगा

और यदि में स्वयं से ही ये पूछूँ जो ज्ञान हमें  अधिक व्यापक, हमारे भीतर के जीवन को और अधिक व्यापक बनाने के क्रम में एक अधिक सही मायने में मानव जीवन के सर्वाधिक वांछित है

तो मैं भारत का नाम लूँगा । 

"India, what can it teach us?,

"If I were to look over the whole world to find out the country most richly endowed with all the wealth, power and beauty that nature can bestow, in some parts a very paradise on earth,

I should point to India.

If I were asked under what sky the human mind has most developed some of it choicest gifts, has most deeply pondered on the greatest problems of life and has found solutions of some of them which will deserve the attention even of those who have studied Plato and Kant,

I should point to India.

And if I were to ask myself from what literature we, here in Europe, who have been nurtured most exclusively on the thoughts of the Greeks and Romans and of the Semitic race and the Jewish may draw that corrective which is most wanted in order to make our inner life more comprehensive, more universal, in fact a more truly human life, again,

I should point to India"




13.The Encyclopaedia  Britannica says:

यदि पृथ्वी पर ऐसा को देश है जहाँ अति प्राचीन मानव सभ्यता विकसित थी तो निसंदेह वह भारत ही है । 

"Man must have an original cradle land whence the peopling of the earth was brought about by migration. 


As to man’s cradle land, there have been many theories but the weight of evidence is in favour of Indo-Malaysia.”

"If there is a country on earth which can justly claim the honour of having been the cradle of the Human race or at least the scene of primitive civilization, the successive developments of which carried into all parts of the ancient world and even beyond, the blessings of knowledge which is the second life of man, that country is assuredly India.“



14.George Harrison,  Beatles (1943 - 2001)
प्रत्येक मानव जाती के लिए एक महत्वपूर्ण खोज यह जानना है की में यहाँ क्यू हूँ , कोन  हूँ, कहाँ से आया हूँ , कहाँ जा रहा हूँ . 
मेरे लिए तो यह सब जानना बाकि सभी कार्यों से अधिक  महत्वपूर्ण स्थान रखता है । 

यहां हर कोई एक भौतिक स्तर पर कम्पायमान  है, जो कहीं नहीं है वो भारत के लोक अध्यात्म के माध्यम से जान चुके है । 

"For every human there is a quest to find the answer to why I am here, who am I, where did I come from, where am I going.  For me that became the most important thing in my life.  Everything else is secondary."

"Here everybody is vibrating on a material level, which is nowhere.  Over there [India], they have this great feeling of something else that's just spiritual going on. “



15.Lin Yutang, Chinese writer,  (1895-1976)

भारत साहित्य तथा धर्म के क्षेत्र में चीन का तथा त्रिकोणमिति, द्विघात समीकरण, व्याकरण, स्वर - विज्ञान, अरेबियन नाइट्स, पशु दंतकथाएं, शतरंज के रूप में अच्छी तरह से दर्शन के रूप में विश्व का गुरु था ।

“India was China’s teacher in religion and imaginative literature, and world’s teacher in Trigonometry, quadratic equations, grammar, phonetics, Arabian Nights, animal fables, chess as well as in philosophy, and she inspired Boccasccio, Goethe, Schopenhauer and Emerson."


"शतरंज की खोज भारत में ही हुई थी जिसका मूल चौसर था"


16.Aldous Huxley,  English novelist (1894-1963)
गीता एक अत्यंत सुन्दर और संभवतः एकमात्र सच्चा दार्शनिक ग्रन्थ है जो केवल भारतियों के लिए नही अपितु समग्र मानवता के लिए है ।

“The (Bhagavad) Gita is one of the clearest and most comprehensive summaries of the perennial philosophy ever to have been done. Hence its enduring value, not only for the Indians, but also for all mankind.  It is perhaps the most systematic spiritual statement of the perennial philosophy.





17.Dalai Lama, (b-1935)
हिन्दू तथा बोद्ध , दोनों ही एक माँ की संतान है ।
“Hindus and Buddhists, we are two sons of the same mother.“






18.John Archibald Wheeler ,  Theoretical Physicist, who coined “Black Hole” (b-1911)

में सोचता हु की कदाचित कोई ये पता लगा पाए की भारतियों की गहरी सोच व् ज्ञान किसी प्रकार ग्रीस तथा ग्रीस से किस प्रकार हम तो पहुंचा ।

"John Archibald Wheeler" ने ब्रहमांड के उस स्थान या शक्ति को ब्लैक होल (श्याम विविर) नाम दिया जो अपने अत्यधिक उच्च गुरुत्व बल के कारन  प्रकाश को भी खा जाता है ।

“I like to think that someone will trace how the deepest thinking of India made its way to Greece and from there to the philosophy of our times.”



19.Guy Sorman,  author of “Genius of India”:

यूरोप का लोकिक विचार व् ज्ञान भारत के ज्ञान के आगे फीका पड़ गया ।
बाइबिल, समय को मापने के लिए मापदंड बन  गया था तब भारतीय ज्ञान विज्ञानं ने बताया यह दुनिया बाइबिल के बताये समय से कहीं अधिक प्राचीन है ।
तथा ऐसा भी लगता है मानो भारतीय ज्ञान विज्ञानं डार्विन के विकासवाद के सिद्धांतों तथा अन्य खगोल भौतिकी से भी कहीं अधिक उन्नत है ।

“Temporal notions in Europe were overturned by an India rooted in eternity.
The Bible had been the yardstick for measuring time,
but the infinitely vast time cycles of India
suggested that the world was much older than anything the Bible spoke of.
It seem as if the Indian mind was better prepared for the
chronological mutations of
Darwinian evolution and astrophysics.”


20.H.G. Wells,  Sociologist, and Historian and Author of  “Time Machine” and “War of the Worlds” (1866-1946)

भारत का इतिहास कई सदियों से  किसी भी अन्य इतिहास से अधिक प्रसन्न ,सुरक्षित और अधिक सुन्दर स्वप्न की तरह  है ।
वे एक ध्यान और शांतिपूर्ण चरित्र का निर्माण करते है जो भारत को छोड़कर कहीं अन्य पाया जाना संभव नही  ।

"The history of India for many centuries had been happier, less fierce, and more dreamlike than any other history.  In these favourable conditions, they built a character - meditative and peaceful and a nation of philosophers such as could nowhere have existed except in India."





21.Jean-Sylvain Bailly,  French Astronomer, (1736-1793)

हिन्दुओं द्वारा लगभग ४ ५ ० ०  वर्षों पूर्व खोजी गई ग्रहों की गति आज के समय में खोजी गई गति से एक मिनट भी ऊपर निचे नही होती ।
हिन्दुओं का खगोल विज्ञान अब तक का प्राचीनतम है । जिसमें से मिस्र, ग्रीक, रोमन और यहूदियों ने भी ज्ञान प्राप्त किया है ।

“The motion of the stars calculated by the Hindus before some 4500 years vary not even a single minute from the tables of Cassine and Meyer (used in the 19-th century).

…The Hindu systems of astronomy are by far the oldest and that from which the Egyptians, Greek, Romans and - even the Jews derived from the Hindus their knowledge.”



22.George Bernard Shaw, Irish dramatist, literary critic, socialist spokesman (1856-1950)

भारतीय जीवन शैली हमें जीवन के  प्राकृतिक तथा सही मार्ग से अवगत करवाती है ।  जबकि हम अप्राकृतिकता रूपी अज्ञानता के अवरणों में ढके रहते है ।
भारत के मुख पर वे  कोमल  भाव रहते  है जिन्हें स्वयं 'रचयिता' ने बनाया है ।

“The Indian way of life provides the vision of the natural, real way of life. We veil ourselves with unnatural masks.
On the face of India are the tender expressions which carry the mark of the Creator's hand.”



23.Dr David Frawley, American Teacher, Doctor, Author, Speaker, Historian

भारत में अति प्राचीन व् सर्वोतम सभ्यता 7000 ई.पू.  तक विकसित थी जिसके कई प्रमाण मिलते है जैसे मेहरगढ़ में हाल के पुरातात्विक खोजों स्पष्ट रूप से पता चलता है की यह दुनिया की प्राचीनतम सभ्यता थी ।

“India possesses a great indigenous civilization dating back to 7000 BC, such as recent archaeological discoveries at Mehrgarh clearly reveal. It had the most extensive urban culture in the world in the third millennium BCE with the many cities of the Indus and Sarasvati rivers.

When the Sarasvati river of Vedic fame dried up in the second millennium BCE, the culture shifted east to the more certain rivers of the Gangetic plain, which became the dominant region of the subcontinent.

Gone is the old idea of the Aryan invasion and an outside basis for Indian culture. In its place is the continuity of a civilization and its literature going back to the earliest period of history.

Unfortunately, over the first fifty years since Independence, India has not discovered its real roots. Its intellectuals have mimicked Western trends in thought. They have forgotten their own profound modern sages like Swami Vivekananda and Sri Aurobindo who projected modern and futuristic views of the Indian tradition.

While Westerners come to India seeking spiritual knowledge, Indian intellectuals look to the West with an adulation that is often blind, if not obsequious.”





24.Annie Wood Besant (एनी बेसेंट),  British Theosophical Society, (1847-1933)

विश्व के विभिन्न धर्मों का लगभग ४० वर्ष अध्ययन करने के बाद मैं इस नतीजे पर पहुंची हूँ की हिंदुत्व जैसा परिपूर्ण, वैज्ञानिक, दार्शनिक और अध्यात्मिक धर्म और कोई नहीं। इसमें कोई भूल न करे की बिना हिंदुत्व के भारत का कोई भविष्य नहीं है। हिंदुत्व ऐसी भूमि है जिसमे भारत की जड़े गहरे तक पहुंची है, उन्हें यदि उखाड़ा गया तो यह महावृक्ष निश्चय ही अपनी भूमि से उखड जायेगा। हिन्दू ही यदि हिंदुत्व की रक्षा नही करेंगे, तो कौन करेगा? अगर भारत के सपूत हिंदुत्व में विश्वास नहीं करेंगे तो कौन उनकी रक्षा करेगा? भारत ही भारत की रक्षा करेगा। भारत और हिंदुत्व एक ही है।

“After a study of some forty years and more of the great religions of the world,

I find none so perfect, none so scientific, none so philosophical and none so spiritual than the great religion known by the name of Hinduism.

Make no mistake, without Hinduism, India has no future.

 Hinduism is the soil in to which India's roots are stuck and torn out of that she will inevitably wither as a tree torn out from its place.

And if Hindus do not maintain Hinduism

- who shall save it?

If India's own children do not cling to her faith

who shall guard it?

India alone can save India and India and Hinduism are one.”




25.Grant Duff British Historian of India


विज्ञान के क्षेत्र में की गई प्रगति जो हमें समझा की
यूरोप में हुई थी बल्कि असल में वह सदियों पहले भारत में हुई  थी ।


“Many of the advances in the sciences
That  we  consider  today  to  have  been  made  in  Europe
Were in fact made in India centuries ago”



26.Niels bohr (7 October 1885 – 18 November 1962)
नील्स बोर जिन्होंने परमाणु मॉडल बनाया था

जब मैं प्रश्नाकुल होता हूँ
तब में उपनिषदों के निकट जाता हूँ ।




27.fritjof capra (1939-)
अमेरिकन भोतिक विज्ञानी


भोतिक विज्ञानं को रहस्यवाद की आवश्यकता नही , और नही ही रहस्यवादीयों को भोतिक की ।

किन्तु मानवता को दोनों की है ..
भारतीय ऋषियों ने अनगिनत युगों में ब्रह्माण्ड के विकास को दिव्या लीलाओं के रूप में देखा है ।
पौर्वात्य विश्व द्रष्टि का सबसे महत्वपूर्ण गुण या सार  है जगत की सभी वस्तुओं तथा घटनाओं में एकता और पारस्परिक सम्बन्ध , विश्व के समस्त द्रश्यों का अनुभव एक ही सत्ता का प्रकटीकरण है ।


28. Carl Sagan (1934 – 1996)
आधुनिक प्रसिद्ध ब्रह्माण्ड विज्ञानी ।

विश्व में एक मात्र हिन्दू धर्म ही ऐसा धर्म है, जो इस विश्वास को समर्पित है कि ब्राह्माण्ड सृजन और विनाश का चक्र सतत चल रहा है। तथा यही एक धर्म है जिसमें काल के सूक्ष्मतम नाप परमाणु से लेकर दीर्घतम माप ब्राह्म दिन और रात की गणना  की गई, जो 8 अरब 64 करोड़ वर्ष तक बैठती है तथा जो आश्चर्यजनक रूप से हमारी आधुनिक गणनाओं से मेल खाती है।"
हिन्दुओं के पावन ग्रन्थ ऋग्वेद १ ० .१ २ ९ में पदार्थ (Matter) का कहीं अधिक यथार्थिक रूप से वर्णन है । 

http://www.vedicbharat.com/2013/04/Age-of-Universe-Vedas-Shri-Mad-Bhagwatam.html 

29.George William Russell (1867 – 1935)
प्रसिद्ध कवि , कलाकार , रहस्यवादी ,चिन्तक । 
श्रीमद्भागवत गीता और उपनिषदों में समस्त जीवन सम्बन्धी ज्ञान इतना दिव्य और पूर्ण है की मुझे लगता है की उनके रचनाकारों ने अपने आवेगयुक्त  संघर्ष वेगमय सहस्रों जीवनों का शांत द्रष्टि से अवलोकन किया है तभी वे इतने नैश्चित्य के साथ लिख पाए की आत्मा को उन पर पूर्ण विश्वास लगता है ।  





30.ella wheeler wilcox (1850 –  1919)
प्रसिद्ध अमेरिकन कवयित्री तथा पत्रकार । 

भारत की भूमि वेदों की है , वेद न केवल सम्पूर्ण जीवन के लिए उपयोगी  धार्मिक विचारों का संग्रह है , अपितु उनमे वे तथ्य भी है जिन्हें विज्ञानं ने सत्यापित किया है । 
विद्युत , रेडियम , इलेक्ट्रॉनिक्स , वायुपोत आदि ये सभी उन ऋषियों को ज्ञात थी जिन्होंने वेदों की आधारशिला रखी । 





31.leonard bloomfield (1887 – 1949)
प्रसिद्ध अमेरिकन  भाषा विज्ञानी तथा लेखक । 

यह तो भारत ही था की जहाँ ज्ञान का ऐसा भंडार उपजा 
की जिसने भाषा सम्बन्धी यूरोपीय विचारों में क्रांति ला दी । 







32.August Wilhelm  Schlegel (1767 –  1845)
जर्मनी के विद्वान् , कवी व् आलोचक । 
यूरोपियों का प्रोढ़तम दर्शन वेदांत के समक्ष मंद चिंगारी के सामान दीखता है । 
सबकुछ, बिना अपवाद के भारतीय मूल का है -
चाहे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से , सभी देश मूल रूप से भारतीय उपनिवेश है । 





33.Erwin Schrödinger (1887 – 1961)
२ ० वीं सदी के महान भोतिक व्  तरंग विज्ञानी । 

इस संसार में जो विभिन्नता है , उसमे चेतना की खोज करने के लिए कोई भी ज्ञान तंत्र नही है , जो भी तंत्र हम बनाते है वह तो मात्र व्यस्टीयों की काल विभिन्नता के आधार पर बनाते है . किन्तु या तंत्र की निर्मिती मिथ्या है । 
इस द्वंद्व का यदि कोई हल उपलब्ध है , वह केवल एक हल है , जो उपनिषदों के प्राचीन ज्ञान में है । 

There is no kind of framework within which we can find consciousness in the plural; this is simply something we construct because of the temporal plurality of individuals, but it is a false construction… The only solution to this conflict insofar as any is available to us at all lies in the ancient wisdom of the Upanishads.”

(Source: Mein Leben, Meine Weltansicht [My Life, My World View] (1961) Chapter 4)

http://www.krishnapath.org/quantum-physics-came-from-the-vedas-schrodinger-einstein-and-tesla-were-all-vedantists/ 



34.francois voltaire (1694 –  1778)
लेखक , इतिहासकार व् दार्शनिक । 

मैं सुनिश्चित हु की खगोलशास्त्र , ज्योतिष , देहांतरण , आदि ज्ञान गंगा के तट से आया है । 
वेद सर्वाधिक मूल्यवान व् प्रतिभा दान थे  जिसके लिए पश्चिम पूर्व का सदा ही ऋणी रहा है 







35.Georg Wilhelm Friedrich Hegel (1770 – 1831)
जर्मन लेखक , इतिहासकार व् दार्शनिक । 

भारत स्वप्न दर्शियों का देश है । भारत ने सदा ही आनंद दायक और जो मानव का सर्वोतम धेय्य है, का स्वप्न देखा है ।  यही कारन है वहां पुराणो , धर्मो, दर्शनों , संगीत, नृत्य तथा वास्तुशिल्प की विभिन्न शेलियों का उत्सव होता रहा है । यह देश बोद्धिक ग्रंथों तथा गहनतम विचारो में बहुत समृद्ध रहा है । 





36.Nikola Tesla (1856 – 1943)
20वी  सदी के जन्मदाता , प्रत्यावर्ती विधुत धारा, विधुत चुम्बकीय क्षेत्र आदि । 

स्वामी विवेकानंद ने १ ८ ९ ५ में अपने एक अंग्रेज मित्र को पत्र लिखा और कहा " मिस्टर टेस्ला सोचते है की  वह गणितीय सत्यापन द्वारा बल और पदार्थ को  ऊर्जा क्षमता में परिवर्तित कर सकते है । मैं अगले सप्ताह उनके इस गणितीय सत्यापन को देखने जाऊंगा । उस स्थति में वेदांत ब्रह्माण्ड विज्ञान उनके सत्यापन की नींव को पक्का करेगी । मैं वेदांत के ब्रह्माण्ड विज्ञान और धर्म/परलोक विद्या पर अब एक अच्छा काम कर रहा हूँ । 

Swami Vivekananda, late in the year l895 wrote in a letter to an English friend, "Mr. Tesla thinks he can demonstrate mathematically that force and matter are reducible to potential energy. I am to go and see him next week to get this new mathematical demonstration. In that case the Vedantic cosmoloqy will be placed on the surest of foundations. I am working a good deal now upon the cosmology and eschatology of the Vedanta.." (Complete Works, Vol. V, Fifth Edition, 1347, p. 77).




36.Werner Heisenberg (1901 – 1976)
भोतिक विज्ञानी व् क्वांटम यांत्रिकी विज्ञानी व् अनिश्चितता सिधांत कर्ता । 

जिन्होंने वेदों  का अध्ययन किया हुआ है उन्हें मेरा क्वांटम - सिद्धांत हास्यास्पद नही लगेगा । 

Quantum theory will not look ridiculous to people who have read Vedanta. 



http://www.krishnapath.org/quantum-physics-came-from-the-vedas-schrodinger-einstein-and-tesla-were-all-vedantists/

ये अच्छी स्टाइल है अंग्रेजों की, कि भारतीयों से कहों की वेदों व् संस्कृत ग्रंथों में मिथ्या बाते है ! और खुद सारा वैदिक ज्ञान अकेले अकेले समेट लो !! :P




अंतिम प्रभा का है हमारा विक्रमी संवत यहाँ,
है किन्तु औरों का उदय इतना पुराना भी कहाँ ?
ईसा,मुहम्मद आदि का जग में न था तब भी पता,
कब की हमारी सभ्यता है, कौन सकता है बता?     

-मैथिलिशरण गुप्त



  एक तरफ हम !
और दूसरी तरफ ऐसी प्रजातियाँ भी अस्तित्व में आयीं जिन्होंने खूनखराबा,मारकाट,
लुटपाट , तोड़फोड़ , अत्याचार व् बलात्कार के अतिरिक्त और कुछ जाना ही नही ।  

त्रिपुरो बलिदैत्येन  प्रेषितः पुनरागतः  -भविष्य पुराण , प्रतिसर्ग खंड ३ , श्लोक १ १ 
राक्षसराज बलि का भेजा एक दैत्य धरती पर पुनः आ चूका है जिसका पूर्व जन्म में नाम 
त्रिपुरासुर था । 

यधपि भविष्य पुराण में काफी विस्तृत बताया गया है की वह कोन है? कहाँ होगा? क्या खायेगा ? क्या करेगा ? तथा पिशाच धर्म की स्थापना करेगा आदि
 किन्तु समझ जाने वाले इस एक श्लोक से ही समझ जायेंगे  की श्री वेदव्यास जी ने किस की ओर संकेत किया था ;-)

There was a mystic demon named Tripura(Tripurasura),
he has come again by the order of Bali (A demon king in past life ) 
-Bhavishya Purana: Prati Sarg: Part III



TIME TO BACK TO VEDAS
वेदों की ओर लौटो । 


सत्यम् शिवम् सुन्दरम्

5 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (28-01-2015) को गणतंत्र दिवस पर मोदी की छाप, चर्चा मंच 1872 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस लेख में आरम्भ से अंत तक स्वराष्ट्र 'भारतवर्ष' का ही गुणगान गा रहे हैं विश्व के सभी दार्शनिक, शिक्षक, विचारक, वैज्ञानिक, संत आदि।
    और अंत में जिस ओर इंगित किया है वह साफ़-साफ़ समझ में आता है।
    सच है बंधु ! विश्व के सुसंस्कृत समुदाय इसलिए तो सावधान होकर उस समुदाय विशेष से संबंध समाप्त करने की ओर अग्रसर हो रहे हैं।
    आज शास्त्र विरोधी और केवल बौद्धिक उपद्रव करने वाले ही भारतीय समाज का अगुआ होने का दावा ठोंक रहे हैं।
    अब इस उपद्रवी पंगत में नवोदित भगवानों के कुछ नवीनतम मठाधीश भी शामिल हो गए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us. Bank Jobs.

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...