मंगलवार, 24 जनवरी 2012

सभ्य आहार और स्वादलोलुपों की बहानेबाज़ी !!


भ्रम # 1- आदिमानव माँसाहारी था।



भ्रम # 2- विश्व में अधिकतर आबादी माँसाहारी है इसलिए माँसाहार सही है



भ्रम # 3- वनस्पति अभाव वाले बर्फ़ीले प्रदेश व रेगिस्तान के लोग क्या खाएंगे?



भ्रम # 4- सभी शाकाहारी हो जाय तो इतना अनाज कहां से आएगा ? पूरा विश्व  शाकाहारी हो जाय तो पूरे विश्व की जनता को खिलाने लायक अनाज का उत्पादन करने के लिए हमें ऐसी चार और पृथ्वियों की आवश्यकता होगी।



भ्रम # 5- प्रोटीन की प्रतिपूर्ति माँसाहार से ही सम्भव है:



भ्रम # 6- संतुलित आहार के लिए, शाकाहार में मांसाहार का समन्वय जरूरी है:



भ्रम # 7- हिंसा तो वनस्पति आहार में भी है:



* विषय सम्बन्धित कुछ अन्य कड़ियाँ * 
शाकाहार में भी हिंसा? एक बड़ा सवाल !!!(पूर्वार्ध)
शाकाहार में भी हिंसा? एक बड़ा सवाल!!! (उतरार्ध)

भ्रम-खण्ड़न का यह विशेष अध्याय पढ़ें निरामिष पर

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...